Mahamrityunjaya Mantra in Hindi | महामृत्युंजय मंत्र हिंदी में | Mahamrityunjaya Mantra Lyrics in Hindi

ॐ नमः शिवाय

Mahamrityunjaya Mantra in Hindi

Mahamrityunjaya Mantra in Hindi

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् ।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॥


Mahamrityunjay Mantra In Hindi

Mahamrityunjaya Mantra Lyrics in Hindi

ॐ हौं जूं स: ॐ भूर्भुव: स्व: ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्व: भुव: भू: ॐ स: जूं हौं ॐ !!


Mahamrityunjay Mantra In Hindi

Maha Mrityunjaya Mantra in English

OM Tryambakam Yajamahe, Sugandhim Pushti Vardhanam, Urvarukmiva Bandhanaan, Mrityor Mukshiya Mamritaat


महामृत्युंजय मंत्र 108 बार।


Maha Mrityunjaya Mantra Meaning in Hindi

निरंजनो निराकार
एको देवों महेश्वरा

मृत्युमुखात गत प्राण
बलादाकृष्य रक्षते

निरंजन निराकार महेश्वर ही एक मात्रा महादेव है जो मृत्यु के मुख में गए हुए प्राण को बलपूर्वक निकालकर उसकी रक्षा करते है।

मरकंड ऋषि का पुत्र मार्कण्डेय अल्प आयु था, ऋषियों ने उसको शिव मंदिर में जाकर महामृत्युंजय मंत्र जपने की समदि प्रदान की।

मार्कण्डेय ऋषियों के वचनो में श्रद्धा रखकर शिव मंदिर में महामृत्युंजय मंत्र का विधिपूर्वक जाप करने लगे, समय पर यमराज आए किन्तु मृत्युंजय के शरण में गए हुए को कौन छू सकता है, यमराज लौट गए।

भगवान शिव की आराधना और महामृत्युंजय मंत्र के जप से मार्कण्डेय ने अपनी तकदीर बदल ली, मार्कण्डेय ने मार्कण्डेय पुराण् की रचना भी की।

ऊं मृत्युंजय महादेव त्राहिमां शरणागतम

जन्म मृत्यु जरा व्याधि पीड़ितं कर्म बंधनः।।

हे मृत्युंजय महादेव मै संसारिक दुविधाओं में फंसा हुआ हु, रोग और मृत्यु मेरा पीछा नहीं छोड़ रही है, मैं आपकी शरण में हु मेरी रक्षा कीजिये।

महामृत्युंजय मंत्र महामंत्र है जिसकी वीधिपूर्वक जाप से व्यक्ति पापो से छूटकर सुख समृद्धि प्राप्त करता है।

इस लोक में नाना प्रकार के कष्टों से मृत्युभय से मुक्त होकर संपत्ति रिद्धि सिद्धि प्राप्त करने का सरल उपाय महामृत्युंजय मंत्र ही है।

ऊं मृत्युंजय महादेव त्राहिमां शरणागतम

जन्म मृत्यु जरा व्याधि पीड़ितं कर्म बंधनः।।


Importance and Benefits of Mahamrityunjaya Mantra in Hindi

Mahamrityunjay Mantra In Hindi

समस्त संसार के पालनहार तीन नेत्रों वाले शिव की हम आराधना करते है। विश्व में सुरभि फ़ैलाने वाले भगवान शिव मृत्य न की मोक्ष से हमे मुक्ति दिलाए।

जिस प्रकार एक ककड़ी अपनी बेल में पक जाने के उपरांत उस बेल रूपी संसार के बंधन से मुक्त हो जाती है, उसी प्रकार हम भी इस संसार रूपी बेल में पक जाने के उपरांत जन्म मृत्यु के बंधनो से सदा के लिए मुक्त हो जाए और मोक्ष प्राप्त कर ले।

शिव सत्य है और वह परमेश्वर है, शिव के परमभक्त मानते हैं कि वह स्वयंभू है, ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव को प्रसन्न करना आसान है और अक्सर भगवान शिव अपने भक्तों से प्रसन्न होकर उन्हें वरदान देते हैं।

यदि आप किसी रोग या रोग से ग्रसित हैं तो इस मंत्र का जाप करने से आयु बढ़ाने में भी मदद मिलती है और यदि आप इस मंत्र को पूरी ईमानदारी और विश्वास के साथ पढ़ते हैं तो यह असमय मृत्यु को रोक सकता है, या मृत्यु को एक निश्चित अवधि के लिए टाल सकता है।

यह मंत्र व्यक्ति को ना ही केवल मृत्यु भय से मुक्ति दिला सकता है बल्कि उसकी अटल मृत्यु को भी टाल सकता है, इस मंत्र के जाप से आत्मा के कर्म शुद्ध हो जाते है, और आयु और यश की प्राप्ति होती है, साथ ही यह मानसिक भावनात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी है।

महामृत्युंजय मंत्र में उपचार शक्तियां हैं, ऐसा माना जाता है कि इस मंत्र के जाप से दिव्य कंपन पैदा होते हैं जो मन चंगा करते हैं और मृत्यु से जुड़े भय को दूर करने में मदद करते हैं।

महान महामृत्युंजय मंत्र मृत्यु पर विजय प्राप्त करने वाला मंत्र है, जिसे त्रयंबकम मंत्र के रूप में भी जाना जाता है, इसे तीन आंखों वाले त्रयंबक को संबोधित किया जाता है, रुद्र का एक विशेषण जिसे बाद में शिव के साथ पहचाना गया, यजुर्वेद में भी कविता की पुनरावृत्ति होती है।

महामृत्युंजय मंत्र तीन हिंदी भाषा के शब्दों का एक संयोजन है, ‘महा’ का अर्थ है ‘महान’, ‘मृत्यु’ का अर्थ है ‘मृत्यु’, और ‘जय’ का अर्थ है ‘जीत’ – जो विजेता या मृत्यु पर विजय में बदल जाती है।


Word by Word Meaning of Mahamrityunjaya Mantra

ओम् ॐ – हिंदू धर्मों में एक पवित्र रहस्यमय शब्दांश है।

त्रयम्बकं – तीन नेत्रों वाला।

यजामहे – हम पूजा करते हैं, हम सम्मान करते हैं।

सुगन्धिम – मीठी महक सुगन्धित।

पुष्टि – एक अच्छी तरह से पोषित स्थिति जो जीवन की समृद्ध परिपूर्णता को फलती-फूलती है।

वर्धनम – जो पोषण करता है, मजबूत करता है, स्वास्थ्य में वृद्धि करता है, धन में वृद्धि करता है, जो आनंदित करता है और स्वास्थ्य को बहाल करता है।

उर्वारुकमिवखीरा या खरबूजा या बड़े आड़ू की तरह।

बन्धनान् – बंधनो से मुक्त करने वाला।

मृत्यो – मृत्यु से।

मुक्षीय – हमे स्वतंत्र करे, मुक्ति दे।

मा – न

अमृतात – अमरता, मोक्ष।


Mahamrityunjay Mantra In Hindi

Meaning Of Mahamrityunjay Mantra

त्रयंबकं – जिसके पास तीन नेत्र हैं, भगवान शिव ही हैं जिनके पास हैं।

यजामहे – जिसकी प्रार्थना या पूजा की जाती है।

सुगंधिम – अच्छी सुगंध।

पुष्टि – समृद्ध, पूर्ण

वर्धनम – जो सुखी, समृद्ध बनाता है, मन की शांति देता है और आपकी देखभाल करता है।

उर्वारुकमिवखीरा

बन्धनान् – संबद्ध या संबंध

मृत्यो – मौत से

र्मुक्षीयहमें मुक्त करो या हमें स्वर्ग भेजो

मा- नहीं

अमृतात् – अमर


Mahamrityunjaya Mantra in Hindi

Mahamrityunjay Mantra In Hindi

महामृत्युंजय मंत्र के जप से से हमें अपनी तीसरी आंख पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए हैं जो दो आंखों के पीछे होती है इससे हमे अपने आप को महसूस करने की शक्ति मिलती है, और इससे हम जीवन में खुशी और शांति मिलती हैं। सब जानते हैं कि अमरता संभव नहीं है लेकिन भगवान शिव और महामृत्युंजय मंत्र के जप से उजागर शक्तियों से हमारी मृत्यु को कुछ विस्तार दिया जा सकता है।

इस मंत्र की बहुत उपयोगिता है और यह उन लोगों के लिए एक सफल मंत्र रहा है जो कुछ बीमारियों से पीड़ित हैं या अचानक मृत्यु का भय रखते हैं।

इस मंत्र में ऊर्जा का उच्चतम रूप है, इस मंत्र का जाप करने के लिए सुबह का समय सबसे अच्छा है, किसी भी प्रकार की गतिविधि से पहले इसका कम से कम 11 बार जाप करें।

एक व्यक्ति प्रतिदिन 108 मंत्र या माला जाप कर सकता है, 108 महत्वपूर्ण है क्योंकि इसकी एक महान गणितीय गणना है।

108 – 12 और 9 का गुणन योग है, 12 राशियों को संदर्भित करता है, और 9 ग्रह को संदर्भित करता है, जब कोई मानव अपने सभी ग्रह और राशियों के बजाय 108 बार इस मंत्र का जाप करता है तो उसके जीवन में उतार-चढ़ाव कम रहता है और उसकी किस्मत की गाड़ी ट्रैक पर रहती है और मन शांत रहता है।

उपरोक्त तरीके के अलावा यदि किसी व्यक्ति के पास समय की कमी है लेकिन वह महामृत्युंजय मंत्र का लाभ प्राप्त करना चाहता है, तो उसे शिवलिंग पर जल डालना चाहिए और इस मंत्र का सिर्फ 11 बार जाप करना चाहिए, ऐसा माना जाता है कि यदि कोई व्यक्ति केवल इस मंत्र को पूरी भक्ति और एकाग्रता के साथ सुनता है तो उसे मानसिक और शारीरिक परेशानियों छुटकारा मिल जाता है।

ऋषि मार्कंडेय दुनिया में एक ही थे जो इस मंत्र को जानते थे, चंद्रमा को एक बार राजा दक्ष द्वारा शाप दिया गया था, ऋषि मार्कंडेय ने राजा दक्ष की बेटी सती को महामृत्युंजय मंत्र दिया था चंद्रमा को बचाने के लिए।

इसे रुद्र मंत्र भी कहा जाता है जो भगवान शिव के उग्र पहलुओं का उल्लेख करता है, त्रयंबकम मंत्र जो शिव को तीन आंखों की ओर इशारा करता है, और इसे कभी-कभी मृत्युसंजीवनी मंत्र के रूप में जाना जाता है क्योंकि यह आदिकालीन ऋषि शुक्राचार्य को दी गई जीवन बहाली अभ्यास का एक घटक है। शुक्राचार्य ने तपस्या की एक थकाऊ अवधि पूरी करने के बाद, इसके देवता रुद्र या भगवान शिव अपने उग्र और सबसे विनाशकारी रूप या पहलू में हैं, वेदों में इसे तीन ग्रंथों में जगह मिलती है – ऋग्वेद, यजुर्वेद और अथर्व देव।

कुछ पुराणों के अनुसार महामृत्युंजय मंत्र का प्रयोग कई ऋषियों के साथ-साथ सती द्वारा भी किया गया है, जब चंद्र दक्ष के श्राप से पीड़ित थे, तब चंद्र का इस मंत्र का पाठ करने से दक्ष के श्राप का प्रभाव कम पड़ा, जिससे चंद्र की मृत्यु धीमी हो गई, और शिव फिर चंद्र को ले लिया और उसके अपने सिर पर रख दिया।

यह मंत्र असामयिक मृत्यु से बचाव के लिए भगवान शिव को संबोधित किया जाता है, शरीर के विभिन्न हिस्सों पर विभूति को लेप करते हुए भी इसका जाप किया जाता है और वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए जप या हवन में उपयोग किया जाता है, जबकि इसकी ऊर्जा रक्षा करती है और मंत्र को फिर से जोड़ने का मार्गदर्शन करती है।।

अपनी गहरी और अधिक स्थायी प्रकृति के प्रति चेतना मंत्र के दोहराव से जप बनता है, जिसके अभ्यास से एकाग्रता विकसित होती है जिससे जागरूकता का परिवर्तन होता है जबकि गायत्री मंत्र शुद्धिकरण और आध्यात्मिक मार्गदर्शन के लिए है, महा मृत्युंजय मंत्र पोषण और कायाकल्प को ठीक करने के लिए है।

त्र्यंबकम – तीन आंखों वाले भगवान शिव जी देखते हैं कि हम क्या देख सकते हैं, लेकिन जो हम नहीं देख सकते हैं यह भी भगवान शिव देखता है।

यजामहे – यजनम आह्वान है, मैं आह्वान करता हूं

सुगंधि पुष्टिवर्धनम – मेरे अच्छे वासनाओं को बढ़ाएं, न कि भौतिक पहलुओं जैसे सोने के पैसे, क्रोध शत्रु आदि।


Mahamrityunjaya Mantra in Hindi 

Mahamrityunjay Mantra In Hindi

जब मैं मर जाऊं तो मेरी आत्मा को बिना किसी लगाव के शरीर को छोड़ देना चाहिए जैसे कि ककड़ी अपने पौधे से गिरती है, महा मृत्युंजय मंत्र एक जीवन देने वाला मंत्र है यह एक शक्ति पूर्ण मंत्र है जो आपको सभी श्रापों से बचा सकता है और एक नया जीवन दे सकता है।

हम भगवान शिव से प्रार्थना करते हैं जिनकी आंखें सूर्य चंद्रमा और अग्नि हैं, वे हमें सभी बीमारियों, गरीबी और भय से बचा सकते हैं और हमें समृद्धि, दीर्घायु और अच्छे स्वास्थ्य का आशीर्वाद दे सकते हैं।

साधक को शारीरिक मृत्यु के स्थान पर आध्यात्मिक मृत्यु से बचने की अधिक चिंता होती है, महा मृत्युंजय मंत्र से भगवान शिव से अनुरोध किया जाता है कि वे हमें ध्यान के पर्वत तक ले जाएं।

महामृत्युंजय मंत्र को शास्त्रीय हिंदू अध्ययनों में मार्कंडेय मंत्र के रूप में भी जाना जाता है, मंत्र को आदर्श रूप से दिन में दो बार सुबह और शाम को 108 बार दोहराया जाना चाहिए, यह विशेष रूप से ध्यान और योग अभ्यास के लिए उपयोगी है।

भगवान शिव को त्रयंबकम कहा जाता है – तीन आंखों वाला, क्योंकि उनकी तीसरी आंख तपस्या और ध्यान के कवियों द्वारा खोली गई है, तीसरी आंख को भौंहों के बीच की जगह में स्थित कहा जाता है और जब कोई आध्यात्मिक जागरण का अनुभव करता है तो उसे खोला जाता है। इसलिए जब हम भगवान शिव से प्रार्थना करते हैं तो हम संक्षेप में उनसे आशीर्वाद और आध्यात्मिक ज्ञान की हमारी तीसरी आंख खोलने में सहायता मांग रहे हैं।

इस जागृति का स्वाभाविक परिणाम यह है कि हमें आध्यात्मिक मुक्ति या मोक्ष की ओर ले जाया जाएगा और मृत्यु और पुनर्जन्म के चक्र से मुक्ति मिलेगी, इस मंत्र के जाप का लक्ष्य आध्यात्मिक रूप से परिपक्व होना है ताकि हम खुद को सभी भौतिक चीजों के प्रति हमारा बंधन जो हमें बांधता है उससे मुक्त कर सकें भगवान शिव हमें मुक्त कर सकें।

Mahamrityunjay Mantra In Hindi

Mahamrityunjay Mantra Video (108 Times)

Video Credit – T Series Bhakti Sagar


Mahamrityunjay Mantra in Hindi PDF Download

Maha Mrityunjay Mantra Ringtone MP3 (Download)


Maha Mrityunjay Mantra in Other Languages

Maha Mrityunjay Mantra in Kannada –

ॐ ತ್ರ್ಯಂಬಕಂ ಯಜಾಮಹೆ ಸುಗಂಧಿಂ ಪುಷ್ಟಿವರ್ಧನಂ
ಉರ್ವಾರುಕಮಿವ ಬಂಧನಾನ್ಮೃತ್ಯೋರ್ಮುಕ್ಷೀಯ ಮಾಮೃತಾತ್.


Maha Mrityunjay Mantra in Bengali –

ॐ ত্রৈয়ম্বকম্ য়জামহে
সূগন্ধিম্ পূষ্টিবর্ধনম্ ।
উর্বারূকমিব বন্ধনাম্
মৃত্যুরমোক্ষিয় মামৃতাত ॥


 Maha Mrityunjay Mantra in Telugu –

ఓం త్రయంబకం యజామహే సుగంధిం పుష్టి వర్ధనం |
ఉర్వారుకమివ బంధనాన్ మృత్యోర్ ముక్షీయ మామృతాత్ ||


 Maha Mrityunjay Mantra in Tamil

ஆஉம் த்ரயம்பகம் யஜாமஹே ஸுகந்திம் புஷ்டிவர்த்தனம் |
உர்வாருகமிவ பந்தனான்-ம்ருத்யோர்முக்ஷீய மாம்ரிதாத் ||


Maha Mrityunjay Mantra in Gujarati

મહા મૃત્યુંજય મંત્ર
॥ જાપ ॥
ॐ ત્ર્યામ્બકામ યજામહે
સુગંધિમ પુશ્તીવાર્ધાનામ ।
ઉર્વારુકામીવા બબંધાનત
મૃતોર્મુક્શીયા મામૃતાત ॥


Maha Mrityunjay Mantra in Sanskrit

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

Leave a Reply

Your email address will not be published.

इन शहरों में सबसे पहले मिलेगी 5G सर्विस, चेक करें लिस्ट Jio-Airtel-Vi : भारत में 1 अक्टूबर को लॉन्च होगा 5G नेटवर्क छप्परफाड़ डिस्काउंट: ये हैं 50 इंच के सबसे सस्ते LED TV 151 रुपये में पाएं हाई स्पीड डेटा, Free ओटीटी सब्सक्रिप्शन और ये सब इस कंपनी के इलेक्ट्रिक स्कूटर्स ने देश में मचाई धूम कपड़ों के पार देख सकता था One Plus स्मार्टफोन का कैमरा, मच गया था हड़कंप Tecno आज लॉन्च करेगा देश का पहला मल्टी-कलर चेंजिंग स्मार्टफोन Samsung के इस धाकड़ Smartphone के अचानक घटे दाम Realme Narzo 50i Prime कम कीमत में भारत में हुआ लॉन्च Apple ने रिलीज किया iOS 16 वर्जन, मजेदार होगा लॉकस्क्रीन, मिलेंगे कई और ऑप्शंस T20 World Cup के लिए Team India का हुआ ऐलान दिल लूटने आया फटाफट फुल चार्ज होने वाला धमाकेदार Smartphone आ रहा है कम कीमत वाला सबसे गजब 5G Smartphone Filmfare Award 2022: जानें किसकी झोली में आया कौन- सा पुरस्कार दुनिया के तीसरे सबसे बड़े रईस बने गौतम अडानी दुल्हन का मेकअप कॉस्मेटिक्स से नहीं बल्कि पेंट से किया जाता है पैरों की जगह सींग जैसे अंग के साथ पैदा हुआ बच्चा Video : लोगों ने कोबरा और नेवले के बीच देखा जोरदार मुकाबला दिलों को लूटने आ रहा Vivo का रंग बदलने वाला फोन ‘700 पुरुषों के साथ बनाए संबंध पर जरा भी नहीं है पछतावा’